गुरुपुष्य योग 2020

  • by admin

गुरुपुष्य योग आज, अक्षय तृतीया के समान शुभफलदायी मई का महीना ज्योतिषीय दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण रहा है। इस महीने जहां कई ग्रहों का राशि परिवर्तन हुआ है वहीं कई राशियों की चाल भी बदली है। महीने का अंत बहुत ही शुभ संयोग में हो रहा है। गुरुवार 28 मई यान‍ि क‍ि आज कई शुभ संयोग एक साथ उपस्थित हुए हैं जो इसे अक्षय तृतीया के समान शुभ फलदायी बना रहे हैं। ऐसे में अगर आप इस साल अक्षय तृतीया के दिन लॉक डाउन की वजह से सोने की खरीदारी नहीं कर पाए तो इस अवसर का लाभ लेकर शुभ शगुन कर सकते हैं। चूंकि इस समय बाजार भी काफी कुछ खुल गया है ऐसे में खरीदारी के लिए 28 मई यान‍ि क‍ि आज का दिन बहुत ही शुभ माना जा रहा है। इसकी वजह है इस दिन लगने वाला पुष्य योग।

ज्योतिषशास्त्र में गुरुवार के दिन पुष्य योग का होना बहुत ही शुभ फलदायी माना गया है। इस योग में कोई भी शुभ काम करना लाभप्रद होता है। सोने की खरीदारी हो या जमीन-मकान की खरीदारी कुछ भी इस दिन करना लाभप्रद होता है। इस योग में लंबे समय के लिए धन का निवेश करना और नया काम धंधा शुरू करना भी फायदेमंद कहा गया है। इस योग में केवल विवाह संस्कार नहीं किया जाता है !

गुरु पुष्य योग के साथ 3 अन्य शुभ योग भी 28 मई को लगने वाला गुरु पुष्य योग इस साल का तीसरा गुरु पुष्य योग है। इससे पहले 2 अप्रैल और 30 अप्रैल को यह योग उपस्थित हुआ था। इसके बाद साल का अंतिम गुरु पुष्य योग 31 दिसंबर को लगेगा। 28 मई को गुरु पुष्य योग के साथ कई अन्य शुभ योगों की मौजूदगी के कारण यह दिन बहुत ही शुभ फलदायी है। इस योग में दान, पुण्य करना भी सामान्य दिनों से अधिक फलदायी माना गया है।

गुरुवार के दिन के स्वामी देव गुरु बृहस्पति हैं। इन्हें सुख, धन और वैभव प्रदान करने वाला ग्रह माना गया है। जबकि पुष्य नक्षत्र के स्वामी शनि महाराज हैं। गरु पुष्य योग पर गुरु और शनि दोनों ग्रहों का प्रभाव होता है। गुरु और शनि के बीच समभाव रहता है। शनि स्थायित्व के कारक ग्रह हैं। जबकि गुरु शुभता के कारक हैं। इसलिए स्थायी संपत्ति, सोना, वाहन, दुकान, व्यापार, निवेश करने के लिए खासतौर पर लंबी अवधि के निवेश के लिए यह योग बहुत शुभ माना गया है।

28 मई को गुरु पुष्य योग और शुभ मुहूर्त

27 मई को सुबह 7 बजकर 28 मिनट से पुष्य योग आरंभ होकर गुरुवार 28 मई को सुबह 7 बजकर 28 मिनट तक।

सर्वार्थ सिद्धि योग 28 मई को सुबह 7 बजकर 28 मिनट तक।

अमृत सिद्धि योग 28 मई सुबह 7 बजकर 28 मिनट तक।

रवि योग 28 मई को सुबह से 7 बजकर 28 मिनट से 29 मई को सुबह 6 बजकर 58 मिनट तक।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *